काव्यांचल

मुखपृष्ठ

मानव होना भाग्य है, कवि होना सौभाग्य” -नीरज जी की इस पंक्ति के आलोक में हम विश्व के प्रत्येक सौभाग्यशाली मानव को प्रणाम करते हैं। ज़िंदगी के कुछ बेहद ख़ूबसूरत लम्हात वक़्त के किसी लासानी ज़र्रे में किसी सुख़नवर के ज़ेह्न के रास्ते जब काग़ज़ पर उतरते हैं तो दुनिया की सारी दौलत से कहीं क़ीमती हो जाता है वो एक सफ़हा। लेकिन जब किसी दिल से कोई दर्द भरी ‘आह’ या ख़ुशदिल ‘वाह’ निकलती है तो ऐसे हज़ारों सफ़हे निछावर हुए जाते हैं।

काव्यांचल एक क़ोशिश भर है… क़द्रदानों और सुख़नवरों के बीच मौज़ूद इस मरासिम को मंज़र-ए-आम तक लाने की। यहाँ सुख़नवर अपने क़द्रदानों से भी उतना ही क़रीब हो सकता है जितना कि वो अपने अहसासात से होता है।

आप सुख़नवर हों तो अपने क़लाम के ज़रिए और क़द्रदान हैं तो आह-वाह के ज़रिए इस क़ुनबे में शामिल हों…

आपका स्वागत है!

21 Responses to “मुखपृष्ठ”

  1. 1
    Ram Chandra Verma "Sahil" Says:

    i would like to join the group. please advice.

  2. 2
    arun bajaj Says:

    i want to join this group because i am interested in literature.

  3. 3
    sheshnath Says:

    I want to join kaavyanchal group.

  4. 4
    virendra singh nagarkoti Says:

    I like it very much & want to join kavyanchal.

  5. 5
    NIRMAL Says:

    PLEASE LET ME WITH THIS GROUP. ADVISE. THANKS

  6. 6
    sharif ahmed qadri Says:

    main ek rachnakar hoon main ye jaan na chahta hoon ki main is site par apni rachnaein kaise bhej sakta hoon

  7. 7
    sharif ahmed qadri Says:

    main is grup ko join karna chahta hoon

  8. 8
    ANIL SRIVASTAVA Says:

    MAN GADGAD HUASITE DEKHKAR

  9. 9
    Sangam Tiwari Says:

    Manav hona bhagya hai kavi hona suabhagya hai aisi vakyoun se motivation hona atayant suabhagya hai.

  10. 10
    Ankit Kumar Patel Says:

    Boss Me Nd My Frnd Both Want To Join This Comunity Becase We Have Some Cretions Of The Kavya

  11. 11
    manoj anuragi Says:

    mai is group se judna chahta hu kyonki kavita hi mera jeevan hai.

  12. 12
    satyam samrat acharya (amrit) Says:

    kash kavyancal ke yh dhara wab- sarwar sa utarkar har sobhagyasali ka antar ma utar ska

  13. 13
    भानु प्रताप सिंह। Says:

    ” काव्याञ्चल ” में विविधता लिये, उच्च कोटि की ढेरों कविताएँ उपलब्ध हैं। इन्हें पढ़कर बहुत सुख मिलता है।
    इस अद्वितीय प्रयास के बधाई स्वीकार करें।

  14. 14
    sharad yadaw 'Aksh' Says:

    pls send me visanu saksena ji ka mobile no. for kavi sammelan.

  15. 15
    hemant kumar Says:

    dear sir/ mam

    mai apni kavita ka prakashan karana chahta hu. please mera uchit marg darshan kare…

    thank you….

  16. 16
    kailash bamniya Says:

    I like kaavyanchal.

  17. 17
    DINESH PAREEK Says:

    i would like to join the group. please advice.

  18. 18
    JHAMAJHAM BAISAWARI Says:

    mai jhamajham baiswari, hasya kavi hun. Mai aapka group join karna chahta hun,

  19. 19
    ranjan sharma Says:

    bhatakte.bhatakte yaha aa gaya,
    kalamkaro ko padhkar maza aa gaya,
    jaag utha bheetar me soya kavi,
    kadradano ki mehfil me, mei bhi aa gaya.

  20. 20
    Satyajeet Agarwal Says:

    How can i join this group.

  21. 21
    Anirudh trivedi Says:

    Sir mai group me shamil hona chahta hu ,sir ye kaise hoga

Leave a Reply