हर एक मर्ज़ का उतारा है जिन्होंने कर्ज़
रात-दिन सुब्ह-शाम दादी जी के नुस्ख़े
साल दर साल हर मौसम में करते थे
सेहत का इंतज़ाम दादी जी के नुस्ख़े
ले के बचपन से जवानी तक आए काम
बिना ख़र्च बिना दाम दादी जी के नुस्ख़े
जहाँ एम.बी.बी.एस. की कोशिशें विफल हुईं
आए हैं वहाँ पे काम दादी जी के नुस्ख़े

© चरणजीत चरण