गतिविधियाँ

काव्यांचल समाचार

on December 23, 2010

मित्रो!
पिछले 15 दिन काव्यांचल पर नई कविताओं का प्रकाशन नहीं हो सका! इसके लिए हमें खेद है। लेकिन यह समय हमने नष्ट नही किया। इस समय में हमने काव्यांचल पर अंग्रेजी खण्ड तथा पुस्तक विक्रय केंद्र की स्थापना की है। इसी दौरान हमने काव्यांचल का एक तिथिपत्र  2011 भी प्रकाशित किया है, जिसमें वाचिक परंपरा के कवियों की जन्मतिथियों को समाहित किया गया है।
अब आपको अपना काव्यांचल एकदम नये रंग-रूप में दिखाई देगा।
आपकी भी यदि कोई पुस्तक प्रकाशित हुई है तो हम उसको काव्यांचल पर विक्रय हेतु प्रदर्शित कर सकते हैं।
इस मंच को और कैसे समृद्ध बनाया जाए इसके लिये आपके सुझावों की प्रतीक्षा रहेगी!

-चिराग़ जैन


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *