देश की आज़ादी का जश्न अभी बाक़ी है
शगुन अभी बाक़ी है, लगन अभी बाक़ी है

यूँ तो हमने कितने ही आयाम पा लिए
जिधर देखो दुनिया में हम हैं यारो छा लिए
चोटियाँ तो ख़ूब छुईं, गगन अभी बाक़ी है
शगुन अभी बाक़ी है, लगन अभी बाक़ी है

हसरतें वो दिल में ले के, फाँसियों पे चढ़ गए
हसरतों को पूरा करने हम भी यारो अड़ गए
शहीदों की तमन्ना का वतन अभी बाक़ी है
शगुन अभी बाक़ी है, लगन अभी बाक़ी है

ऐ वतन के नौजवान, तुझको आज जगना है
जज्वा वही वीरता का, फिर से दिल में भरना है
वीरों की खाई हुई, क़सम अभी बाक़ी है
शगुन अभी बाक़ी है, लगन अभी बाक़ी है

अजय सहगल