रचनाएँ

Category: भारत भूषण

तस्वीर अधूरी रहनी थी


मेरे मन-मिरगा नहीं मचल


प्रिय मिलने का वचन भरो तो


जा तुझको भी नींद न आए


बनफूल