रचनाएँ

Category: रमानाथ अवस्थी

अंधेरे का सफ़र मेरे लिए है


याद तुम्हारी आई सारी रात