रचनाएँ

Category: परवीन शाक़िर

अपनी रुसवाई तेरे नाम का चर्चा देखूँ


बस मिरे प्यार की इज़्ज़त करता


उस समय