रचनाएँ

Category: जितेन्द्र गौरव

तुम्हारे नगर गया था


प्यार के बिना


चाहत


निश्चित ही कोई जादू है


अंतर है स्थितियों में


यादों के अवशेष