रचनाएँ

Category: जगदीश सोलंकी

जिसका भरोसा एक बार उठ जाए


लोग यहाँ हाथ में नमक लिए बैठे हैं