रचनाएँ

Category: नरेश कुमार ‘शाद’

यों आए वो रात ढले


ग़म खुशी में ढाला है


फ़रेब