रचनाएँ

Category: सूरदास

अब कै राखि लेहु गोपाल


अनत सुत


अति आनंद भए


अजिर प्रभातहिं