रचनाएँ

Category: रमेश शर्मा

याद आती है माँ


क्या लिखते रहते हो यूँ ही


मैं तब से जानता हूँ


इक आम-सी लड़की थी