रचनाएँ

Category: मुज्ज़फ़र ‘रज्मी’

दिल को धड़कने नहीं देता


रह गया