रचनाएँ

Category: किशन सरोज

तुम निश्चिन्त रहना


हिलता रहा मन


ग़ुलाब हमारे पास नहीं


नदिया के किनारे


कसमसाई देह फिर चढ़ती नदी की