रचनाएँ

Category: शैलेन्द्र

अजीब दास्तां है ये


जूही की कली मेरी लाडली


रुक जा रात ठहर जा रे चंदा


याद न जाए


जीना यहाँ, मरना यहाँ