रचनाएँ

Category: भीमसेन त्यागी

गीत दर्द का


मन का कंगन बेच दिया


हम सुनाते रहे


तुम आईं!


शांति के कबूतर