रचनाएँ

Category: शेरजंग गर्ग

मचानों पर खड़े हैं


मंजूर ख़ुदक़ुशी भी नहीं


अधर की प्यास तो देखो