रचनाएँ

Category: दिनेश बैस

गाँव-खेत-जंगल


डरे हुए लोग


वचनों के दंश


जो असहमत होगा


प्रथम चुम्बन की तरह


कैसे हो तुम महापुरुष