रचनाएँ

Category: ख़्वाजा मीर ‘दर्द’

जिस लिए आए थे हम सो कर चले