रचनाएँ

Category: जॉन एलिया

ये कैसी तन्हाई है


सायबाँ के थे ही नहीं


ख़ामोशी कह रही है