रचनाएँ

Category: गयाप्रसाद शुक्ल ‘सनेही’

परतन्त्रता की गाँठ


पावन प्रतिज्ञा


असहयोग कर दो


वह हृदय नहीं है पत्थर है