रचनाएँ

भविष्य

आचार्य महाप्रज्ञ

भविष्य!
वर्तमान से निर्मित होता है
वर्तमान!
भविष्य में प्रतिबिंबित होता है
जो वर्तमान में जीता है
भविष्य उसी का होता है

3 Responses to “भविष्य”

  1. 1
    संगीता पुरी Says:

    बढिया विचार .. आपको रक्षाबंधन की बधाई और शुभकामनाएं !!

  2. 2
    mahendra mishra Says:

    रक्षाबंधन की बधाई और शुभकामनाएं,,,

  3. 3
    Pramod Singh Says:

    nice thoughts.I am respect your Thought.

Leave a Reply