कल्पना

कल्पना

आचार्य महाप्रज्ञ

कल्पना का एक किनारा
तुम्हारे हाथ में है
और दूसरा मेरे हाथ में
ये सिमट भी सकते हैं
और बढ़ भी सकते हैं

Leave a Reply