माँ और पिता

माँ और पिता

सुधीर सागर

घर की दीवार पर टंगी
माँ की तस्वीर देखकर
लोग कहते हैं
मुझसे
तुम्हारी माँ मर चुकी है।
लेकिन माँ
लोग झूठ बोलते हैं
हम सब इस दुनिया में
माँ और पिता के वजूद हैं।
सच यही है
मेरी माँ तो क्या…
…माँ तो किसी की भी नहीं मरती।

One Response to “माँ और पिता”

  1. 1
    Pawan Sharma Says:

    Wah Sudhir Sagar Ji Kya likha hai aapne. Salam us Maa ko jisne apko janm diya.

Leave a Reply