रचनाएँ

बारिश

सुधीर मौर्या “सुधीर’

बारिश को देखती
वो कमसिन लड़की
हाथ बड़ा कर
पानी की बूंदों को
कोमल हथेलियों में
इकट्ठा करती
फिर ज़मीं की जानिब
उड़ेल देती
में उसके पास जाकर खड़ा हुआ
तो एक अंजुली पानी
मेरे चेहरे पर फेंक कर
खिलखिलाती हुई
अंदर भाग गई

लाल जोड़े में
वो जब डोली में बैठी
आँखों से उसके अश्क बरस रहे थे
आज उसने
अंजुली में इस बारिश
को इकट्ठा नहीं किया
आज मुझसे कोई शरारत नहीं की
आज न जाने क्यों,
मुझे
ये बारिश अच्छी नहीं लगी

Leave a Reply