पानी में भी आग लगाना सीखो

पानी में भी आग लगाना सीखो

धनसिंह खोबा ‘सुधाकर’

पानी में भी तुम आग लगाना सीखो
शोलों को हवाओं से बुझाना सीखो
मुमक़िन ही बने जिससे नामुमक़िन भी
तदबीर ‘सुधाकर’ वो बनाना सीखो

Leave a Reply