रचनाएँ

Tag: kuldeep

विवाह-निमंत्रण


आदमी बदलते देखा है


विद्या है अनमोल रतन


उलझन में हूँ


तुम मुझे मुझसे ज़्यादा जानती हो……………!


मैंने ज़िन्दगी देखी है


प्यार दे कोई


मांगता कैसे


बचपन