कवि-परिचय

शंभू शिखर

shambhushikhar

10 जनवरी 1984 को बिहार में जन्मे शंभू शिखर एक हास्य कवि के रूप में अपनी पहचान बना चुके हैं। दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातकोत्तर तक अध्ययन करने के साथ-साथ उन्होंने एक ग़ज़लकार के रूप में उभरना शुरु किया ही था कि लाफ़्टर कार्यक्रमों में धमाकेदार प्रदर्शन कर, वे एक सद्य हास्य कलाकार के रूप में स्थापित हुए।
जीवन के बेहद आम लगने वाले अनुभवों को अपनी ग़ज़लों में पिरोने वाले शंभू शिखर का हास्य भी ज़िंदगी की रोज़मर्रा की समस्याओं को स्पर्श करते हुए प्रवाहित होता है। उनकी बेबाक़ी और ग़ज़लगोई उन्हें अपनी पीढ़ी के रचनाकारों में विशिष्ट बनाता है।
हिंदी कविता की वाचिक परंपरा की सबसे युवा पीढ़ी का ये लाडला रचनाकार घंटों मंच से लोगों को बांधे रखने में दक्ष है।

शंभू शिखर की रचनाएँ पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें


Leave a Reply