कवि-परिचय

देवल आशीष

21 मार्च 1971 को लखनऊ में जन्मे देवल आशीष हिंदी गीत के सबसे लाडले रचनाकार हैं। जनसंचार एवम् वाणिज्य में स्नातकोत्तर की उपाधियाँ प्राप्त करने वाले इस रचनाकार का मूल विषय प्रेम है। सात्विक प्रेम और हृदयस्पर्शी संवेदना देवल के गीतों में एकरूप होती दिखाई देती है।
इस दौर ने देवल के गीतों पर झूमते हज़ारों श्रोताओं का रोमांच देखा है। मन से लिखने वाला और मन से पढ़ने वाला ये गीतकार हिंदी कवि-सम्मेलन मंच की वर्तमान पीढ़ी का लोकप्रिय कवि है। जो सौम्यता देवल के लेखन में है, बिल्क़ुल वही सच्चाई और सादगी देवल के जीवन में भी है। आडंबर न तो उनके लेखन का हिस्सा है न ही उनके जीवन का।
अनेक संस्थाओं ने इस मधुर गीतकार को विविध सम्मानों तथा पुरस्कारों से अलंकृत किया है। हाल ही में देवल का प्रथम काव्य संग्रह ‘अक्षर-अक्षर चूम लिया’ शीर्षक से प्रकाशित हुआ है।

देवल आशीष की रचनाएँ पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

4 Responses to “देवल आशीष”

  1. 1
    parmanand bhargava Says:

    aapse thi na milne ki utni khushi …..jitna gham milkar bichhad jane ka hua….
    namaskar!!!
    “jabse suna hai maine tumhe aadhi raat ko….
    rahta hoon main bechain ab aadhi raat ko…
    koi pata de aapka ,do baat kar le hum…
    jane kis haal me hoge aap aadhi raat ko…

    just aapko type karte hi likh diya hai so jyada gour mat karna….
    aap ye rachna mujh tak kaise pahuchayenege jiska jikra main ab kar raha hoon
    “jaogi nahi to aayu bhar pachhtaogi….
    yugo ki hai jaani anjaani pal bhar ki….anjani jag ki kahani pal bhar ki…”
    plz aap mujhe iski cd send kar dijiye’
    and plz tell me the way by which i can pay for this cd….plz do need full as soon as possible
    ur loving listener…ur fan
    parmanand bhargava
    kalyan ashram
    harifatak ,near kshipra dhaba,bal hanuman mandir,ujjain mp

  2. 2
    sumit sharma Says:

    sujhav!!!!!
    hypnotized after listening your line ‘mandir mai kya hoga jo antar mai aaradhan hai’

    simply grrrrrreeeeeeeaaaaat..
    sumit sharma

  3. 3
    sumit sharma Says:

    very sorry that was ‘kya mandir mai hoga jaisa antar mai aaradhan hai’

  4. 4
    Sumit Sharma Says:

    laapke sirf teen hi geet sun paya hoon.
    aapki three lines hypnotized me:

    ‘bahta pani, pani-pani ho kar maange pani’
    ‘kya mandir main hoga jaisa antar main aaradhan hai’
    ‘kya patthar mai khoje usko jiski rachna jeevan hai’

    hamen anmol geet dene ke liye koti-koti dhanyawad
    sumit sharma

Leave a Reply