कवि-परिचय

दीपक चौरसिया ‘मशाल’

dipak-chaurasiya-mashal-1

24 सितम्बर सन् 1980 को उत्तर प्रदेश के उरई ज़िले में जन्मे दीपक चौरसिया ‘मशाल’ की प्रारंभिक शिक्षा उत्तर प्रदेश के ही कोंच नामक स्थान पर हुई। बाद में आपने जैव-प्रौद्योगिकी में परास्नातक तक शिक्षाध्ययन किया और वर्तमान में आप उत्तरी आयरलैंड के क्वीन्स विश्वविद्यालय से पीएच.डी. शोध में संलग्न हैं।
14 वर्ष की आयु से ही आपने साहित्य रचना प्रारंभ कर दी थी। लघुकथा, व्यंग्य तथा निबंधों से प्रारंभ हुई आपकी साहित्य यात्रा धीरे-धीरे कविता, ग़ज़ल, एकांकी तथा कहानियों तक पहुँची। साहित्य के अतिरिक्त चित्रकारी, अभिनय, पाक् कला, समीक्षा, निर्देशन तथा संगीत में आपकी गहरी रुचि है। तमाम पत्र-पत्रिकाओं में आपकी विविध विधाओं की रचनाएँ प्रकाशित होती रही हैं।
आपकी कविताओं में जहाँ एक ओर प्रेम की सहज संवेदना अभिव्यक्त होती है वहीं सामाजिक सरोकार और विडम्बनाओं के प्रति कचोट भी स्पष्ट दिखाई देती है।

दीपक चौरसिया ‘मशाल’ की रचनाएँ पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

Leave a Reply