कवि-परिचय

अरुण मित्तल ‘अद्भुत’

arun-mittal-adbhut-6

21 फ़रवरी 1985 को जन्मे युवा कवि अरुण मित्तल ‘अद्भुत’ ओज के युवा हस्ताक्षर हैं. प्रबंधन के प्राध्यापक होने के बाद भी अरुण अद्भुत को हिंदी कविता के अनेक विधाओं के व्याकरण एवं संवेदना की गहरी समझ है. वे गजल, कविता, कहानी, लघुकथा, संस्मरण, लेख तथा फीचर, इत्यादि अनेक विधाओं में अपनी लेखनी चला रहे हैं, अरुण अद्भुत का मुख्य स्वर “ओज” है. उनकी लगभग 300 रचनाएँ विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं. एवं लगभग 50 कविताएँ, गजलें एवं लेख, हिन्दयुग्म, अनुभूति, नई कलम, काव्यांचल, रचनाकार, सृजनगाथा, आदि अंतरजाल पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं, उन्हें अग्रवाल सभा, मानव कल्याण संघ, लायंस क्लब, सहित अनेक सामजिक एवं साहित्यिक संस्थाओं उनकी साहित्यिक प्रतिभा तथा साहित्यिक समर्पण के लिए सम्मानित किया है हाल ही में उन्हें सांस्कृतिक मंच, भिवानी ने राज्य स्तरीय राजेश चेतन काव्य पुरस्कार से सम्मानित किया है।

अरुण मित्तल ‘अद्भुत’ की रचनाएँ पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें

Leave a Reply