जागो अब तो जागो
जागो देश महान
मेरे प्यारे हिन्दुस्तान
अब तो जागो…

सोने की चिड़िया कहलाता था ये देश हमारा
बन कर मित्र चलाया तब दुश्मन ने तेज़ दुधारा
गंगा-जमुना सहित हिमाला भी था लहूलुहान
मेरे प्यारे हिन्दुस्तान
अब तो जागो…

शब्द कहाँ गा सकते, उनकी है जो अमर कहानी
राष्ट्रप्रेम की बलिवेदी पर, होम हुए बलिदानी
जन-जन ॠणी हुआ है उनका, याद रखो बलिदान
मेरे प्यारे हिन्दुस्तान
अब तो जागो…

पश्चिम की आंधी से अपनी संस्कृति आज बचानी
आतंकी मनसूबों पर फेरें हम मिलकर पानी
भाषा-धर्म अलग हैं फिर भी एक है हिंदुस्तान
मेरे प्यारे हिन्दुस्तान
अब तो जागो…

अंजू जैन