मैं ताँ देस अपणे नूँ जाणा, आई ए बैसाखी सोणेया
वेड़े भंगड़ा ते गिद्दा असी पौणा, आई ए बैसाखी सोणेया

दूर बैठी देस तों दिल किवें परचाँवाँ मैं
रोम-रोम आखदा ए, शगन मनाँवाँ मैं
नाल तेरे हर सपना सजौणा, आई ए बैसाखी सोणेया

इक वारी हथ फड़ पल्ला नहीं छड़ाइदा
प्यार जिथे पाइए, असी तोड़ नभाइदा
एनाँ रस्माँ तों वारी-वारी जाणा, आई ए बैसाखी सोणेया

साडी रग-रग विच, लहू फिरे वीराँ दा
ऋषियाँ ते मुनियाँ दा, गुरुऑं फकीराँ दा
ऋण मिट्टी दा वी चाइदा चुकाणा, आई ए बैसाखी सोणेया

अजय सहगल